Ranji Trophy 2021-22, FINAL: मध्य प्रदेश ने रचा इतिहास, मुंबई को 6 विकेट से हरा पहली बार बनी रणजी चैंपियन

रणजी ट्रॉफी का फाइनल मुकाबला मध्य प्रदेश और मुंबई के बीच खेला गया। जहां 41 बार की चैंपियन मुंबई को 6 विकेट से हराते हुए मध्य प्रदेश पहली बार रणजी ट्रॉफी की विजेता बनी। तो आइए नजर डालते हैं बेंगलुरू के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले गए इस फाइनल मुकाबले पर।

मुंबई में पहली पारी में 10 विकेट पर 374 रन बनाए

टॉस जीतकर मुंबई ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। कप्तान पृथ्वी शॉ ने 47 और यशस्वी जयसवाल 78 रन बनाए। इन दोनों बल्लेबाजों के आउट होने के बाद मुंबई पारी लडखडाती हुई नजर आई। एक छोर से सरफराज खान डटे रहे लेकिन दूसरे छोर से मुंबई के बल्लेबाजों का आउट होना लगातार जारी रहा। गिरते विकेटों के बीच सरफराज खान ने 134 रन की शतकीय पारी खेली सरफराज ने अपनी इस पारी में 13 चौके और 2 छक्के जड़े जिसकी बदौलत मुंबई में अपनी पहली पारी में 10 विकेट पर 374 रन बनाए। मध्यप्रदेश के लिए गौरव यादव ने सबसे ज्यादा 4 विकेट झटके। जबकि अनुभव अग्रवाल ने 3, सारांश जैन ने 2 और कुमार कार्तिकेय ने 1 विकेट चटकाए।

यश दुबे, शुभम शर्मा और रजत पाटीदार के शतक

जवाब में उतरी मध्य प्रदेश की बल्लेबाजी मुंबई से काफी मजबूत दिखी। हालांकि की मध्य प्रदेश को 47 के स्कोर पर ही पहला झटका लगा। हिमांशु 31 रन बना पवेलियन लौटे। लेकिन इसके बाद यश दुबे, शुभम शर्मा और रजत पाटीदार ने शतक जड़े। यश दुबे ने 14 चौकों के साथ शानदार 133 रन बनाए। वही शुभम शर्मा ने 15 चौके और एक छक्का लगा 116 रन की शतकीय पारी खेली। जबकि रजत पाटीदार ने भी 20 चौकों के साथ 122 रन बनाए। इसके बाद आठवें नंबर पर बल्लेबाजी करने आए सारांश जैन में भी अर्धशतक जड़ते हुए 57 रन बनाए। इस तरह मध्यप्रदेश ने अपनी पहली पारी में 10 विकेट पर 536 रन का विशाल स्कोर बनाया। मुंबई के लिए शम्स मुलानी ने 5, तुषार देशपांडे ने 3 और मोहित अवस्थी ने 2 विकेट झटके।

मुंबई की दूसरी पारी 269 रनों पर सिमटी

दूसरी पारी में भी मुंबई के बल्लेबाज कुछ खास नहीं कर पाए। मुंबई के कप्तान और ओपनर पृथ्वी शॉ 44 रन बना आउट हुए। वहीं हार्दिक तमोर 25 और अरमान जाफर 37 रन बना पवेलियन लौटे। पहली पारी के शतकवीर सरफराज खान भी 45 रन बनाने के बाद आउट हुए। वहीं दूसरी छोर पर खड़े सुवेद पारकर ने अर्ध शतक जड़ा। सुवेद ने अपनी इस पारी में 3 चौके और एक छक्का लगा 51 रन बनाए। इसके अलावा मुंबई का कोई भी बल्लेबाज मध्य प्रदेश के गेंदबाजों के आगे ज्यादा देर नहीं टिक सका और मुंबई की दूसरी पारी 269 रनों पर ही सिमट गई। मध्य प्रदेश के लिए कुमार कार्तिकेय ने 4 विकेट झटके जबकि गौरव यादव और पार्थ साहनी ने दो-दो विकेट चटकाए।

मध्य प्रदेश को मिला 108 रन का लक्ष्य

108 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी मध्य प्रदेश को 2 रन पर ही पहला झटका लगा। पहली पारी में शतक जड़ने वाले यश दुबे सिर्फ 1 रन बना पवेलियन लौटे। ओपनर हिमांशु मंत्री 37 जबकि शुभम शर्मा 30 रन बना आउट हुए। पार्थ साहनी भी 5 रन बना शम्स मुलानी का तीसरा शिकार बने। जबकि रजत पाटीदार 30 और कप्तान आदित्य श्रीवास्तव 1 रन बना नॉट आउट रहे इस तरह मध्यप्रदेश में अपनी दूसरी पारी में 4 विकेट पर 108 रन बना लक्ष्य हासिल किया और रणजी ट्रॉफी अपने नाम किया मुंबई के लिए शम्स मुलानी ने तीन और धवल कुलकर्णी ने 1 विकेट चटकाए इस मैच में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले शुभम शर्मा मैन ऑफ द मैच बने जबकि सीरीज में बेहतरीन खेल दिखाने वाले सरफराज खान मैन ऑफ द सीरीज बने।

About Kanhaiya Krishna

Check Also

करतारपुर कॉरिडोर

74 साल बाद करतारपुर कॉरिडोर के जरिए मिले दो भाई, बंटवारे ने किया था अलग

1947 में जब भारत और पाकिस्तान का बंटवारा हुआ तो मोहम्मद सिद्दीक नवजात थे। उनका …

सर्व भारतीय हिन्दू बंगाली संगठन ने नव वर्ष मिलन समारोह का किया आयोजन

सर्व भारतीय हिन्दू बंगाली संगठन ने नव वर्ष मिलन समारोह का किया आयोजन

सर्व भारतीय हिन्दू बंगाली संगठन ने नव वर्ष मिलन समारोह का किया आयोजन कोषाध्यक्ष कल्याण …

Leave a Reply

Your email address will not be published.